ads banner
ads banner
ads banner
भारतीय खिलाड़ीजानिए क्या है Pramod Bhagat का अनोखा पैरा बैडमिंटन रिकॉर्ड

जानिए क्या है Pramod Bhagat का अनोखा पैरा बैडमिंटन रिकॉर्ड

जानिए क्या है Pramod Bhagat का अनोखा पैरा बैडमिंटन रिकॉर्ड

Pramod Bhagat: सौ मिनट, 106 अंक. रविवार, 25 फरवरी को पटाया में 2024 पैरा बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप (Para Badminton World Championships 2024) में एसएल 3 श्रेणी के फाइनल में, प्रमोद भगत को यूके के विश्व नंबर 1 डैनियल बेथेल (Daniel Bethell) को हराने के लिए इतना समय चाहिए था। यह भगत के लिए एक ऐतिहासिक विश्व खिताब था, जिन्होंने चीनी बैडमिंटन के महान खिलाड़ी लिन डैन के पांच विश्व खिताबों की बराबरी की। यह पैरालंपिक के वर्ष में भगत का एक स्पष्ट आह्वान भी था।

भगत ने जीत के कुछ दिन बाद लाउंज को बताया कि, “लिन डैन मेरे आदर्शों में से एक हैं और किसी भी तरह से उनसे मेल खाना एक बड़ी उपलब्धि है। एक करीबी, कड़े मुकाबले वाले फाइनल में भगत ने बेथेल को 14-21, 21-15, 21-14 से हराकर अपनी दिलचस्प प्रतिद्वंद्विता में बढ़त बनाए रखी। भगत ने टोक्यो पैरालिंपिक फाइनल में भी बेथेल को हराया था, लेकिन भारतीय तब से अपने 11 में से नौ मैच हार गए थे।

“वर्ल्ड्स एक ऐसा मंच है। जहां हम दोनों अच्छा प्रदर्शन करने के लिए उत्सुक थे। यह पैरालंपिक के लिए आखिरी क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट था। यह इस साल के पैरालिंपिक से पहले बयान देने का मेरा तरीका भी था। विश्व चैम्पियनशिप का यह मैच संकेत देगा कि कौन आगे है। अन्य टूर इवेंट उतना मायने नहीं रखते, लेकिन इस तरह का इवेंट हारने से दबाव बन सकता है। मैं अपना प्रभुत्व दिखाना चाहता था। पांचवीं विश्व चैम्पियनशिप जीतना एक अतिरिक्त उपलब्धि थी।”

ये भी पढ़ें- कोच Mohammed Siyadatullah Siddiqui ने छोड़ी गोपीचंद अकादमी

Pramod Bhagat: भगत ने इस साल की पैरा बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप में भारतीय मार्च का नेतृत्व किया। भारत ने तीन स्वर्ण सहित 18 पदकों के साथ प्रतियोगिता का समापन किया। भगत के अलावा सुहास यतिराज और टोक्यो स्वर्ण पदक विजेता कृष्णा नागर ने भी अपनी-अपनी स्पर्धाएं जीतीं। जहां नागर ने एसएच6 श्रेणी में चीन के नेली लिन को 22-20, 22-20 से हराया, वहीं यतिराज ने एसएल4 श्रेणी में इंडोनेशिया के फ्रेडी सेतियावान को 21-18, 21-8 से हराकर अपना पहला विश्व चैंपियनशिप स्वर्ण पदक जीता।

यह भारतीय पैरा बैडमिंटन टीम के लिए एक और सफल यात्रा थी, जो पदक की दौड़ में थी, जब से यह घोषणा की गई थी कि इस खेल को टोक्यो खेलों में ओलंपिक रोस्टर में शामिल किया जाएगा। भगत का पांचवां विश्व चैंपियनशिप खिताब जीतना भी भारत की पैरा स्पोर्ट्स क्रांति में एक और मील का पत्थर है, जो पिछले एक दशक में गति पकड़ रहा है।

हालांकि, 35 वर्षीय भगत बहुत अधिक उम्र के और धूमिल स्वभाव के हैं। भगत को याद है कि जब उन्होंने 2009 में अपना पहला विश्व चैंपियनशिप खिताब जीता था तो उन्हें उदासीनता का सामना करना पड़ा था। एक विश्व कार्यक्रम में उनके शामिल होने से देश में रत्ती भर भी दिलचस्पी नहीं दिखी।

भगत ने कहा कि, “गरम खून था। मैं विश्व चैंपियन बनने के लिए बहुत उत्साहित था, जो उस समय 21 वर्ष के थे। लेकिन जब मैं घर आया तो किसी को इसकी परवाह नहीं थी। कोई प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, सरकारी समर्थन नहीं था। उस वक्त मुझे बहुत बुरा लगा। ऐसा लग रहा था कि हमने जो भी प्रयास किए थे, उनका कोई महत्व नहीं रह गया था।”

 

Deepak Singh
Deepak Singhhttps://onlinebadminton.net/
यहां आपको बैडमिंटन के बारे में नवीनतम समाचार और कहानियां, साथ ही इसके कुछ इतिहास मिलेंगे। यहां रहने का आनंद!

बैडमिंटन न्यूज़ हिंदी

नवीनतम बैडमिंटन स्टोरीज